19th & 20th AUGUST 2015 TAKSHAK SNAKE KING_NAGLOK

This article focuses on the effects and remedies of Mahapadam Kaal Sarp Yoga/Dosha.

Lord Brahma’s son Kashyapa had four wives. Kashyapa’s first wife gave birth to Devas, second to Garudas, third to Nagas (snakes) and fourth to Daityas (demons). The third wife was called Kadroo, so Nagas are also known as Kadrooja. Kadru was mother of one thousand Nagas. Some prominent names being Sesha,Vasuki, Takshaka, Anant, Kanwal, Karkotak, Kalia, Aswatar, Padma, Mahapadma, Shankh, Kulik, Pingal etc.

Mahapadma is one of the species of powerful snakes like Vasuki, Takshak, Karkotak and padma. Vishnu Purana has mentioned about different species of snakes in their text, it also talks about Mahapadma.

Mahapadam Kaal Sarp Yoga

If all the planets are placed between sixth and twelfth house where Rahu is placed in the sixth house and Ketu is placed in the twelfth house in a Horoscope, which means all the planets are enclosed between Rahu and Ketu moving from Rahu (placed in sixth house) to Ketu (placed in the twelfth house), then Mahapadma Kalsarp Dosha is created in the native’s horoscope.

Effects of Mahapadam Kaal Sarp Yoga /Dosha

Here is my analysis of presence of Padam Kaal Sarp Yoga / Dosha in a horoscope:

Sixth house is the house for enemies, diseases, competition and maternal support. Presence of Rahu in the sixth house can amplify the negative effects on these attributes.

Twelfth house is the house of expenditures, losses, journeys and salvation.

A Kaal Sarp Yoga with Rahu in 6th house and Ketu in 12th house will have following negative effects on native’s life:

  • When a person having above mentioned arrangements of planets between Rahu & Ketu he will have many powerful  enemies who will give problems. These enemies will be strong, may be hidden and will always be victorious. The enemies of this person will not confront him openly and work against him secretly and will give him much damage.
  • The person with Mahapadam Kaal Sarp Yoga in his/her Kundli will be prone to health diseases. The native is likely to spend huge amounts of money on health treatments and will not live a healthy life.
  • The native with this Kaal Sarp Yoga in the Kundli will travel a lot and change a lot of places which will have a negative impact on the household life. He or she will face a lot of disappointments and stress throughout the life.
  • The person will have much expenditure in wasteful things and will have very less savings.
  • He will be unpopular with his in-laws.
  • In case of female, she will always get bad behavior from her in-laws.
  • The native will not get the desired support from his/her maternal side. Infact when the native is passing through a Mahadasha or Antardasha of Rahu, his/her maternal uncle (Maama ji) will have to face a lot of problems.
  • He could be imprisoned also and will have punishment in the hand of government.
  • The native’s old age will be full of distress.

It is not mandatory that the person suffering from this Kaal Sarp Dosha will only have negative effects on his life. There are examples of some very successful persons who had this Kaal Sarp Dosha in their Kundli. For Example Pandit Jawahar Lal Nehru the first prime minister of India had Mahapadam Kaal Sarp Yog in his Kundli.

A Kaal Sarp Yoga with Rahu in 6th house and Ketu in 12th house  depending on other planet and house combinations will have following positive impact on native’s life:

  • The person despite hidden and powerful enemies is likely to be very courageous and brave.
  • Native has the power to benefit in politics or high official Government position.
  • The native will get all the material pleasures through his own hard-work and abilities.
  • The person with this Kaal Sarp Yoga in his Kundli will have a very sharp mind.

Cautions and remedies

The problems mentioned above can vary from person to person depending on the intensity of “Mahapadam kaal Sarp Yoga” and placement of otherplanets in the native’s horoscope. But the bad effects of this Yoga / Dosha can be reduced with some cautions and with the help of some specific remedies like:

  • Jaapa of mahamritunjaya mantra for one lakh twenty five thousand (125000) times. The remedy will be completed with kaal sarp maha pooja of Lord shiva.
  • Coronate lord Shiva with milk and water for 30 days during Shravana Maasa to reduce the malefic effects of Mahapadma Kalsarp dosha.
  • On the day of Naag Panchmi (Shukal Paksha), Shiv Ratri or Shravana Monday the following is to be offered to Lord Shiva – 14 pairs of silver Naag-Nagin, milk, curd, rice, mishri,sugar,desi ghee,white chandan,dhatura, fruits, 14 flowers of akora, 14 flowers of lotus etc.
  • A silver ring of snakes and gemstone of Onyx will be useful in overcoming the negative effects of Mahapadma Kalsarp Dosha.

Monday, June 21, 2010

One of the great wonders SHESHNAG( 5 headed Snake) Found in Infosys University Campus, Karnataka India .




SHESH NAG (the serpent god)


SHESH NAG (the serpent god) comprises an important part of
Hindu mythology. As the reclining couch and the roofing canopy
of the god Vishnu, it has been a god venerated by all and
worshipped by many for centuries.

It is considered to be the king of the serpent race and the ruler
of the infernal regions called PATAL. God Vishnu sleeps over
the bed of its coils during intervals of creation. Shesh Nag is
also represented as one supporting the world on its hood.

The Nags have three Kings, VAASUKI, TAKSHAK and SHESH.
Shesh is said to represent the ‘remainder’ when the universe is
destroyed and the power of creation (Lord Vishnu) rests on its
coils. The Nags are dwelling in an underworld, called NAG LOKA,
which is an immense domain crowded with palaces, houses, towers
and pleasure gardens.

ANANTA – THE TIMELESS

According to Varaha Purana, three of the lower worlds, PATAL,
ATAL and SUTAL belong to the Nags. Their favorite places of
visitations are the banks of river, IKSHUMATI, the NAIMISH
forest on the shores of the GOMATI, the northern banks of
the GANGA and the NISHAD land. They also dwell under the sea.

These nags are not always the enemy of man and they even inter
marry with them. Arjun of Mahabharata married a Nag girl named
Uloopi. Shesh Nag is the serpent with a thousand heads and is also
called ‘ANANTA ‘, the timeless, because it does not die with
destruction of the universe.

All serpents are of divine extraction, because they are the children
of Kadru, who herself is the descendant of Kashyap. The main city
of Nags is Bhogvati (the city of pleasures), where Shesh appears
like the White Mountain adorned with gems. The later Purana
identify Shesh even with Krishna as Vishnu. Shesh is said to be
the soul of Krishna’s brother Balrama. Thus Shesh emerged
from the body of dying Balrama and entered the earth, where
he received a warm welcome by all other serpents.

Temple Name : Takshak

Image1

Address : Mauja Harbanshnagar , Dariyabagh

Address :

Mauja Harbanshnagar , Dariyabagh, Allahabad, Uttar Pradesh, India.

About of  ‘Takshak’  Temple :Mentioned in the ‘Prayag Mahatmayi Shatadhyayi’ as one of the most sacred places, as the Kundalini Shakti of the Earth is said to recide here. There are some broken carved pieces of stone lying in a corner, which appear to be part of the original structure. Also, available is a stone tablet with some text, probably in Pali. The temple is raised almost 10 ft above the ground on a large platform that also houses a baradari and two other temples. The Takchak Mandir consists of a basic octagonal structure , surrounded by an octagonal colonnade in a simple beam and column affair, which appears to be of recent date, though the antiquity of the existence and location of the temple is not in any doubt. The Garbha Griha is topped by a Lodhi dome, which may be an indication that the temple building may have been adopted at a later date. The five Shivlinga with Naga icons in copper, are housed in the niche formed between three sides of the octagon.

allahabad gallary
Historical

10 सबसे ज़हरीले भारतीय सांप।

24
(किंग कोबरा: सबसे ज़हरीला भारतीय सांप)
एक आंकड़े के अनुसार भारत में हर साल 46 हजार लोग सर्पदंश से मरते हैं (जबकि सरकारी आँकड़ा मात्र 20 हजार का है)। इसकी मुख्‍य वजह यह है कि न तो भारत में पाए जाने वाले ज़हरीले सांपों के बारे में पर्याप्‍त जानकारी है और न ही उनसे बचाव के तरीके ही मालूम हैं। सांपों से सम्‍बंधित जानकारियां यहां पर नियमित रूप से प्रकाशित की जाती रही हैं।
इसी क्रम में आज भारत में पाए जाने दस सबसे ज़हरीले सांपों की जानकारी दी जा रही है। ये सांप इस प्रकार हैं:
2. भारतीय कोबरा (Indian Cobra) Indian Kobra
4. अलबीनो रसल वाइपर (Albino Russell’s Viper)
5.  बेन्‍कड करैत (Banked Krait) Banked Karait
7. सॉ-स्‍केल्‍ड वाइपर (Saw-Scaled Viper
8. ग्रीन बैम्‍बू पिट वाइपर (Green Bamboo Pit Viper)
9. मालाबार पिट वाइपर (Malabar Pit Viper)
10. हम्‍प नोस्‍ड पिट वाइपर (Hump-Nosed Pit Viper)

इन सांपों को सचित्र देखने के लिए आप इस वीडियो का सहारा ले सकते हैं।

Next
सांप का ज़हर कैसे दुहते हैं ?
Previous
Snake bite? Don’t Panic, Just Do it R.I.G.H.T.’

Post a Comment

  1. good job.

    Anil Vishwakarma

    Reply

  2. hi I m pravesh jaiswal I love snakes

    Reply

  3. hi I m pravesh jaiswal I love snakes

    Reply

  4. अच्छी जानकारी लेकिन इन में से सबसे जहरिला सांप करैत (krait) हैं किंग कोबरा का जहर इतना घातक नही होता उसके जहर कि मात्रा अघिक होती हैं किंग कोबरा एक बार मे इतना जहर छोडता जो एक हाथी को मार सकता हैं करैत का जहर कोबरा तथा किंग कोबरा से सात गुना घातक होता हैं

    Reply

  5. मीत जी, आपकी प्रतिक्रिया के लिए आभार।
    जैसा कि आपने स्वयं कहा कि किंग कोबरा बहुत ज्यादा मात्रा में ज़हर छोडता है इसीलिए उसे सबसे ज्यादा जहरीला माना गया है।

  6. This comment has been removed by the author.

    Reply

  7. नमस्कार सर मै आपका। बहुत। आभारी हूँ मुझे साँपों से बहुत लगाव हैं मैं इनेहे बचाना चाहाता हूँ अब तक मैंने बहुत से सांपों को बचाया हैं लोगों के घरों से पकड़ कर जंगल मे छोड़ देता हूं अभी दो दिन पहले एक घर से एक इसपैकटिकल कोबरा को बचाया है लेकिन सर मैं पूरी जिंदगी सांपों को बचाना चाहता हूं ओर बड़े पैमाने पर काम करना चाहता हूं किसी के साथ जुडना चाहता हूं लेकिन समझ नहीं आता कहा से शुरू करूँ कृपया मुझे बताये मै कया करूँ

    Reply

  8. नमस्कार सर मै आपका। बहुत। आभारी हूँ मुझे साँपों से बहुत लगाव हैं मैं इनेहे बचाना चाहाता हूँ अब तक मैंने बहुत से सांपों को बचाया हैं लोगों के घरों से पकड़ कर जंगल मे छोड़ देता हूं अभी दो दिन पहले एक घर से एक इसपैकटिकल कोबरा को बचाया है लेकिन सर मैं पूरी जिंदगी सांपों को बचाना चाहता हूं ओर बड़े पैमाने पर काम करना चाहता हूं किसी के साथ जुडना चाहता हूं लेकिन समझ नहीं आता कहा से शुरू करूँ कृपया मुझे बताये मै कया करूँ

    Reply

  9. नमस्कार सर मै आपका। बहुत। आभारी हूँ मुझे साँपों से बहुत लगाव हैं मैं इनेहे बचाना चाहाता हूँ अब तक मैंने बहुत से सांपों को बचाया हैं लोगों के घरों से पकड़ कर जंगल मे छोड़ देता हूं अभी दो दिन पहले एक घर से एक इसपैकटिकल कोबरा को बचाया है लेकिन सर मैं पूरी जिंदगी सांपों को बचाना चाहता हूं ओर बड़े पैमाने पर काम करना चाहता हूं किसी के साथ जुडना चाहता हूं लेकिन समझ नहीं आता कहा से शुरू करूँ कृपया मुझे बताये मै कया करूँ

    Reply

  10. नमस्कार सर मै आपका। बहुत। आभारी हूँ मुझे साँपों से बहुत लगाव हैं मैं इनेहे बचाना चाहाता हूँ अब तक मैंने बहुत से सांपों को बचाया हैं लोगों के घरों से पकड़ कर जंगल मे छोड़ देता हूं अभी दो दिन पहले एक घर से एक इसपैकटिकल कोबरा को बचाया है लेकिन सर मैं पूरी जिंदगी सांपों को बचाना चाहता हूं ओर बड़े पैमाने पर काम करना चाहता हूं किसी के साथ जुडना चाहता हूं लेकिन समझ नहीं आता कहा से शुरू करूँ कृपया मुझे बताये मै कया करूँ

    Reply

  11. नमस्कार सर मै आपका। बहुत। आभारी हूँ मुझे साँपों से बहुत लगाव हैं मैं इनेहे बचाना चाहाता हूँ अब तक मैंने बहुत से सांपों को बचाया हैं लोगों के घरों से पकड़ कर जंगल मे छोड़ देता हूं अभी दो दिन पहले एक घर से एक इसपैकटिकल कोबरा को बचाया है लेकिन सर मैं पूरी जिंदगी सांपों को बचाना चाहता हूं ओर बड़े पैमाने पर काम करना चाहता हूं किसी के साथ जुडना चाहता हूं लेकिन समझ नहीं आता कहा से शुरू करूँ कृपया मुझे बताये मै कया करूँ

    Reply

  12. मीत जी, आपका जज्‍बा और कार्य देख कर हार्दिक प्रसन्‍नता हुई। आप बहुत ही सराहनीय कार्य कर रहे हैं, इसकी जितनी तारीफ की जाए कम है।

    आप सांपों से सम्‍बंधित किसी भी प्रकार की जानकारी लेख के रूप में दे सकते हैं, यहां तक कि जो सांप वगैरह पकड कर आप जंगल में छोडते हैं, उनके बारे में भी सचित्र रिपोर्ट, जिसमें सम्‍बंधित सांप के बारे में भी कुछ जानकारी हो, बनाकर भेज सकते हैं। हमें उसे यहां पर प्रकाशित करके प्रसन्‍नता होगी। इस ब्‍लॉग का उददेश्‍य ही यही है, जिससे सांपों के सम्‍बंध में लोगों को जागरूक किया जा सके और उन्‍हें बचाया जा सके।
    यदि आप चाहेंगे, तो हम आपको लेखक के रूप में सीधे ब्‍लॉग से भी जोड सकते हैं। आप इस सम्‍बंध में पत्राचार मेरे ईमेल zakirlko@gmail.comपर भी सीधे कर सकते हैं। यदि आप उचित समझें, तो मेरे मो0 9935923334 पर भी इस सम्‍बंध में बातचीत कर सकते हैं।
    आप को अपनी टीम में शामिल करके हमें भी हार्दिक प्रसन्‍नता होगी।

  13. This comment has been removed by the author.

    Reply

  14. This comment has been removed by the author.

    Reply

  15. धन्यवाद सर मैं आपको अगली बार पूरी डिटेल के साथ आपकी मेल आईडी पर भेज दूंगा सर आप से एक ओर बात पता करनी थी एक नाजा २०० नाम की होमोपेतिक दवाई है जो सांप के काटने पर दि जाती है कया ये दवाई काम करती है अगर करती है तो विस्तार से बताएँ इस दवाई को मरीज के मूह में १० १० मिनट के अंतराल पर एक एक बूंद दिया जाता है ये कसे काम करती है कृपया बताएँ मुझे आपके जवाब की प्रतीक्षा रहेगी

    Reply

  16. मित्रवर, होम्योपैथि‍क दवा नाजा 200 के बारे में कहा तो यही जाता है कि यह सांप के जहर से बचाने में कारगर है, किन्तु कई डॉक्टरों से पूछने पर यह कंफर्म नहीं हो सका कि यह कितनी कारगर दवा है। क्योंकि जिन डाॅक्टरों से मैंने बात की, उन सभी ने कभी इसका उपयोग नहीं किया था। इसलिए बेहतर यही है कि यदि सांप के काटने पर यह दवा उपलब्ध हो, तो इसे दे भले दिया जाए, पर एन्टीवेमन की डोज भी अवश्य दिया जाए। क्योंकि सांप के काटने का एकमात्र प्रामाणि‍क इलाज एंटीवेनम ही है।

    Reply

  17. जानकारी के लिए धन्यवाद सर जी मैं आपका बहुत अधिक आभारी हूँ की आपने मुझे इस लायक समझा मैं तो सिर्फ एक छोटी सी कोशिश कर रहा हूँ इन जीवों को बचाने के लिए जो कि हर किसी को करनी चाहिये ये जीव तो हमारी पर्करती का हिस्सा है सर मुझे आप से ये पता करना था की कोबरा सांप में नर और मादा का कैसे पता लगाया जाता है इनकी क्या क्या पहचान होती है कृपया निसान सहित बताने का कष्ट करें आपकी अति किृपा होगी

    Reply

  18. मीत जी, नर और मादा कोबरा में मुख्य अंतर यही होता है कि नर कोबरा मादा की तुलना में बडा और मोटा होता है। विशेषकर मादा कोबरा की पूंछ नर की तुलना में पतली होती है। लेकिन यह कोई ऐसा अंतर नहीं है, जिसे देखकर कोई सामान्य आदमी नर और मादा में तुलना में कर सके।
    जहां तक व्यवहार की बात है, मादा कोबरा की एक मुख्य पहचान यह भी होती है कि वह अपने अंडों को सेने के लिए स्वयं घोसले का निर्माण करती है और उसमें अंडे देने के बाद उन्हें सेती है। और इस दौरान उसका व्यवहार बेहद एग्रेसिव होता है।

  19. धन्यवाद सर जी जानकारी देने के लिए, सर आपसे ये पता करना है की जो लोग सांपों को मारते है उनके लिए कोई सरकारी कानुन नही है जो इन लोगों को रोक सके या हम इस की शुरुआत कर सकते हैं क्या अपने यहा के वनअधिकारी से बात कर सकते है कल गाँव के एक लड़के ने एक कैप कोबरा को मार डाला बड़ा दुःख होता है यह सब देख कर अगर मैं वहां होता तो यह सब नहीं होने देता क्या ऐसे लोगों के लिए कोई सजा नहीं है हमारे देश में सर कृपया मुझे बताएंगे की मै क्या कर सकता हूँ इन लोगों को रोकने के लिए जब ऐसे लोग इस बहुमूल्य जीव को मारते है तो मुझे बहुत अधिक दुख होता है गुस्सा भी बहुत आता है कृप्या मुझे सही सलहा ओर जानकारी दें

    Reply

  20. मित्रवर, कानून तो है, पर कितने कानूनों का पालन हो पाता है हमारे देश में। असल मुददा है जागरूकता, उसके बिना सारे कानून धरे के धरे रह जाते हैं। और फिर सांपों को मारने के पीछे मुख्य वजह होती है डर, क्योंकि आदमी को लगता है कि यह तो मुझे काट कर मार ही देगा, इस‍ीलिए लोग उन्हें देखते ही मार देते हैं। इसलिए लोगों में जागरूकता लाना जरूरी है। जब लोगों को पता चलेगा कि सांप किसी अन्य पर तभी हमला करते है, जब उनकी जान पर बन आती है, तो वे निश्चय ही अपने उस डर से बाहर निकल पाएंगे और तभी इनकी सुरक्षा भी हो सकेगी।

  21. Blog achha laga. Hum v bhot dar hai snake se pr unko marna nhi bchana chahte hai. Blog keliye dhanyabaad

    Reply

  22. Puri Jankari nahi hai Sapo ki ………..

    Reply

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s